History

  1. Genesis 2:16,17 And the LORD God commanded the man, saying, Of every tree of the garden thou mayest freely eat: But of the tree of the knowledge of good and evil, thou shalt not eat of it: for in the day that thou eatest thereof thou shalt surely die.
    Genesis 2:16,17 And the LORD God commanded the man, saying, Of every tree of the garden thou mayest freely eat: 
    But of the tree of the knowledge of good and evil, thou shalt not eat of it: for in the day that thou eatest thereof thou shalt surely die.
    changed by Bill Burton .
    Copy to clipboard
  2. Genesis 2:16,17 And the LORD God commanded the man, saying, Of every tree of the garden thou mayest freely eat: But of the tree of the knowledge of good and evil, thou shalt not eat of it: for in the day that thou eatest thereof thou shalt surely die.
    Genesis 2:16,17 And the LORD God commanded the man, saying, Of every tree of the garden thou mayest freely eat: 
    But of the tree of the knowledge of good and evil, thou shalt not eat of it: for in the day that thou eatest thereof thou shalt surely die.
    changed by Bill Burton .
    Copy to clipboard
  3. लेकिन अच्छे और बुरे, तू इसे खाने नहीं करोगे के ज्ञान के पेड़ की: उत्पत्ति 2:16,17 और यहोवा परमेश्वर तू खा आज़ादी mayest बगीचे के हर पेड़ की, कह रही है, आदमी की आज्ञा दिन में लिए तू eatest उसके तू निश्चित रूप से मर जाते हैं.
    लेकिन अच्छे और बुरे, तू इसे खाने नहीं करोगे के ज्ञान के पेड़ की: उत्पत्ति 2:16,17 और यहोवा परमेश्वर तू खा आज़ादी mayest बगीचे के हर पेड़ की, कह रही है, आदमी की आज्ञा दिन में लिए तू eatest उसके तू निश्चित रूप से मर जाते हैं.

    लेकिन अच्छे और बुरे, तू इसे खाने नहीं करोगे के ज्ञान के पेड़ की: उत्पत्ति 2:16,17 और यहोवा परमेश्वर तू खा आज़ादी mayest बगीचे के हर पेड़ की, कह रही है, आदमी की आज्ञा दिन में लिए तू eatest उसके तू निश्चित रूप से मर जाते हैं.

    changed by Robert Edmiston .
    Copy to clipboard